मैं तुम्हारा मन बनना चाहता हूँ |

चंदा चकोरी
सोना सा मुखड़ा
आँखें है तेरी
जीवन का टुकड़ा |

हर एक बात
है सयानी
मंज़िल हर मेरी
अधूरा सा सपना |

खोई है रातें
खाली ये दिन है
नीली सी सुबह
शाम घनी है |

मधुर है आवाज़
संगीत सुनहरा
तेरे आने के इंतज़ार में
दिल को अपनों का है आसरा |

रज रज में कण-कण में
हर दुःख में हर सुख में
तेरे सुर की है आवाज़
तेरे कोमल मन की है तृष्णा |

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s