मैं बूढ़ा हो रहा हूँ

मैं बूढ़ा हो रहा हूँतजरुबा बढ़ रहा है औरगलतियों का पिटारा भीखुश करने से ज्यादाखुश रहने का वक़्त गवा चूका हूँ उम्र यूँ बीत रही हैदाढ़ी अब सफ़ेद हो रही हैबस एक आदत गलतियांकरने की छूट नहीं रही है l बार बार करता हूँकई बार नई नई गलतियाँ रोता हूँ मन को समझाता हूँजैसे तैसे… Continue reading मैं बूढ़ा हो रहा हूँ

भारतीय जल्लाद पार्टी ( BJP )

अफवाहों के ये जल्लाद हैझूठ फ़ैलाने के ये सहिंसापढ़ाई लिखाई में सबसे पीछेसच को रौंदने में सबसे आगे इंसानी वेष में तिरंगी भेड़ियाभारतमाता पे ये है कलंकखून से सनी है इनके दामनहर रोज नए वेष बदलते है असमंजस इनकी ताकत हैअंधी भक्ति इनका हथियार है lमूर्खो की सभा के राजा हैमूर्खो की स्पर्धा के विजेता… Continue reading भारतीय जल्लाद पार्टी ( BJP )

It’s not about just being a Woman

कितनी ही बलायें सहती है ये नारीमाँ - पिता का घर - आँगन छोड़अनजान सी नगरी रहती है नारी | एक लड़की थी, उसे एक लड़के से मोहब्बत हो गयीसंकोच कर उसने माँ पिता को अपने मन का हाल बताया | एक भारतीय संस्कृति में अपने आप सेकिसी को चाहना जैसे गुनाह सा है |… Continue reading It’s not about just being a Woman